जिम करने के क्या नुकसान है | gym karne ke nuksan in hindi

नए ज़माने के इस दौर में हर एक की चाहत होती है चाहे वह लड़का हो या लड़की, कि उसका शरीर स्‍वस्‍थ और सुडौल हो | आजकल जिम में वर्कआउट करना हमारी युवा पीढ़ी का पैशन और फैशन दोनों बन गया है |
युवा अपने शरीर को वी शेप में में लाने के लिए और बाईसेप, ट्राईसेप बनाने के लिए घंटो जिम में वर्कआउट एक्सरसाइज करते है |
लेकिन गलत तरीके से और देर तक जिम करने से हमारे शरीर को बहुत नुक्सान भी पहुंचा सकता है | इसकी वजह से बहुत युवाओ को इनफर्टिलिटी क्लीनिक्स जाना पड़ रहा है |
gym karne ke nuksan in hindi

शायद आपको सुनकर हैरानी होगी, डॉक्टरों का कहना है कि यदि आप जिम में जरूरत से ज्यादा एक्सरसाइज और वेट ट्रेनिंग करते है तो आपके स्पर्म कमजोर हो सकते है |
ऐसा इसलिए होता है कि ज्यादा वर्कआउट करने से स्पर्मेटिक कॉर्ड में वैरिकोज वेन्स बढ़ जाती है, जिससे हमारे स्पर्म काफी कमजोर हो जाते है |
हड्डियों का कमजोर होना:
ये हम सब ने सुना है कि एक्सरसाइज करने से हमारी हड्डिया मजबूत होती है | लेकिन आज के दौर में युवा जल्दी से जल्दी सिक्स पैक और डोले बनाने के वजह से वह जिम में जरूरत से ज्यादा एक्सरसाइज करते है|जिससे हड्डियों में ज्यादा दबाव पड़ता है और वह मजबूत होने की बजाय कमजोर हो जाती है | इससे गठिया रोग होने की भी संभावना होती है। वैसे भी उम्र बढ़ने के साथ साथ हमारी हड्डिया कमजोर होती है |
ज्यादा वर्कआउट करने के नुकसान:
अगर आप ज्यादा एक्सरसाइज करते है तो खून का दबाव बढ़ता है जिससे शरीर से इंसुलिन और एचडीएल कोलेस्‍ट्रॉल का स्‍तर घटता जाता है और इससे दिल की बीमारियों के होने का चान्सेस रहते है |
डॉक्टरों का कहना है कि इनफर्टिलिटी क्लिनिक्स में आने वाले ज्यादातर युवा वैरिकोज वेन्स की समस्या के शिकार होते हैं | जिन्हे बाद में सर्जरी ही करवानी पड़ती है | ऐसा बिना किसी जिम एक्सपर्ट के सलाह न लेने की वजह से होता है |
अपने शरीर को स्वस्थ रखना हमारा परम कर्तव्य होना चाहिए | इसलिए हमे प्रेतक दिन एक्सरसाइज करना चाहिए , लेकिन हमारा युवाओ से अनुरोध है की वह हमेशा जिम एक्सपर्ट की पूरी सलाह से वर्कआउट करे और जरूरत से ज्यादा भी जिम करने की कोई जरूरत नहीं है | यदि आप रेगुलर एक्सरसाइज करते है तो आप का स्वस्थ और सुडौल शरीर बनेगा |
मैं आशा करता हूँ कि हमारे देश के सभी युवा स्वस्थ रहे |
Image Source: Pixabay

No comments: